भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आंरै लारै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिंझ्या पड़तां ई
उपाळै सूं आगै साइकिल वाळो
साइकिल वाळै सूं आगै स्कूटर वाळो
स्कूटर वाळै सूं आगै कार वाळो
आगे निकळण खातर
         आंख्यां मींच र जोर लगावै

अर आरै लारै
दौड़ियो आवै अंधारो
       दड़बड़- दड़बड़

झींटा खिंडायां आगै ऊभी
आज री रात अणूती ई विकराळ है !