भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आं आखरां नै संभाळ’र देख तूं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आं आखरां नै संभाळ’र देख तूं
ऐ सवाल सामां उछाल’र देख तूं

आ गयां पछै लारै रैसी कांईं
पीड़ अमोलक, पीड़ पाळ’र देख तूं

मुळकती सांस रो भेद समझ आसी
सांस खातर सांस गाळ’र देख तूं

राख देख’र उदास ना हो भायला
फूंक मार खीरा उजाळ’र देख तूं

बिना कैयां आखो जग जाण जासी
म्हैं आंसू म्हांनै निकाळ’र देख तूं