भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आइने की सतह / जय छांछा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आइने की फिसलन जैसी सतह
बेदाग तुम्हारे चेहरे रूपी पन्ने पर
प्रेम के बहुमूल्य सूत्र लिखने का मन करता है ।

गुलाबी, सुंदर और आकर्षक
तुम्हारे प्यारे अनुहार रूपी बगीचे को
पलक झपके बिना देखते रहने का मन करता है ।

बिना झूठ बोले, गर कहूँ तो मेरी प्रिये
रजिस्ट्ररी करा कर तुम्हारा चेहरा
अपने दिल के अंदर फ्रेम में सजाकर
हमेशा-हमेशा के लिये रखने का मन करता है ।

मूल नेपाली से अनुवाद : अर्जुन निराला