भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आइये, पधारिये / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आइये, पधारिये
बज़्मे-दिल सँवारिये

वक़्त बेलगाम है
हौसला न हारिये

माले-मुफ़्त है वतन
लूटिये, डकारिये

आप तो हैं हुक्मरान
शेखियाँ बघारिये

हो सके तो डूबती
क़ौम को उबारिये

सो रही हों क़िस्मतें
ज़ोर से पुकारिये

उम्र अधेड़ है ज़रूर
मन न अपना मारिये