भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आईना फ़र्श पर गिरने को है / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आईना फ़र्श पर गिरने को है
हर कहीं कांच बिखरने को है

कैसा सूरज है रोशनी की जगह
पूरा घर आग से भरने को है

हौसला चोटियों पे चढ़ने का,
सिर्फ़ फिसलन ही ठहरने को है

सर कटे पेड़ पूछ देते हैं,
यहां से कौन गुज़रने को है?

एक आंसू सम्हाल कर बैठी,
आंख में ख़्वाब उतरने को है