भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आएँगे / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब कुछ याद रखे हूँ ।
कब जो चिबुक के पास तर्जनी रखकर
अवाक् होकर ताकी हो गमलों के पुष्पगाछ की तरफ;

अरी माँ ! कितने सुन्दर हैं ?
इतनी कलियाँ आ गईं हैं ?
वे खिलेंगी कब ?

आज ही खिल गई हैं
यदि तुम घूमकर देख सकती हो
तो सारे फूलों के साथ तुम्हारी भेंट हो जाएगी ।

फूल आएँगे,
एक बार ज़रूर आएँगे,

गमले के गाछ के पास
मोढ़ा डालकर बैठा रहूँगा मैं ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी