भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आएंगे दिन कविताओं के. / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आएंगे दिन उन कविताओं के
जिन्हें लिखा मैंने छोटी उम्र में
मैं कवि हूँ-
जब स्वयं को भी नहीं था मालूम यह ।
आएंगे दिन राकेट के अंगारों
और फव्वारों से छूटते छींटों-सी कविताओं के ।

धूप और आलस के नशे में झूमते
मंदिर में घुस आए शिशु-देवदूतों-सी
यौवन और मृत्यु की
जो पढ़ी नहीं गईं
आएंगे दिन उन कविताओं के ।

दूकानॊं की धूल में बिखरी हुई
ख़रीदारों की उपेक्षा की शिकार
महंगी शराब की तरह
मेरी कविताओं के भी दिन आएंगे ।

रचनाकाल : मई 1913

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह