भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आओगी तुम मुस्कराकर / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीता रात का तीसरा पहर
तुम नहीं आए
आधा हुआ चंदा पिघलकर
तुम नहीं आए

मै अकेला हूँ यहाँ पर
यादो की चादर ओढ़कर
रात भर पीता रहा
ओस में चाँदनी घोलकर

फूल खिले है ताज़ा या तुम
अपने होठ भिगोए हो
हवा हुई है गीली-सी क्यों
शायद तुम भी रोए हो

अब सही जाती नहीं प्रिय
एक पल की भी जुदाई
देखकर बैठा अकेला
मुझ पे हँसती है जुन्हाई

बुलबुलें भी उड़ गई हैं
रात सारी गीत गाकर
किन्तु मुझको है भरोसा
आओगी तुम मुस्कराकर

किन्तु मुझको है भरोसा
आओगी तुम मुस्कराकर