भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ राधा नहाण चलां मेरे राम / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ राधा नहाण चलां मेरे राम।
म्हारा तो नहीं ए चलान
दूधां मैं रम रही मेरे राम।
दूधां का कैसा हे गमान,
आवै बिलाई पी जावै हरे राम।