भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ रै साथी चालै / दयाचंद मायना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ रै साथी चालै, दुनियां से दूर-2
प्रेम नगर चलकै बसां रै...टेक

चीज मिलज्या जो मन चाह्वै
सब तरिया दिल बहलावै
नाचै और गावै, जहाँ इन्द्र की हूर-2
खेलां-कूदां और हँसां रै...

सब सिंगार प्यार का गहणा
कर मेरे यार, मानले कहणा
चौबिस घण्टे, हरदम रहना नशे में चूर-2
आनन्द की के गल दसां रै...

एक समान समझ दिन राती
जलै जित ज्योत, तेल बिन बाती
हिम्मत का हो राम हिमाती, जाणा से जरूर-2
सफर चलन की, कमर कसां रै...

कदे खुशी कदे सोग करै सैं
‘दयाचन्द’ घणे वियोग करै सैं
ये दुनिया आले लोग करै सैं, कुणबे का गरूर-2
हाम झंझट म्हं, क्यूं फंसां रै...