भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ स्पर्श करें एक-दूसरे को / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ स्पर्श करें एक-दूसरे को
जब तक हैं हमारे हाथ,
हथेली और कुहनियाँ...

प्यार करें एक-दूसरे से
दुःख पाने के लिए,

दें यातना और संताप
कुरूप करें और अपंग
ताकि याद रखें बेहतर,

और बिछ्ड़ें तो
कम हो कष्ट

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल