भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ हम तुम खेल खेलें / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ हम तुम खेल खेलें
जो मर्ज़ी हो तुम वह बोलो
जो मर्ज़ी हो हम समझेंगे
रोएंगे या गाएंगे
या हँस हँस कर चुप जाएँगे
तुम चाहो तो छू सकते हो
तन को.. मन को... जो मर्ज़ी हो
लेकिन कोई भी कुछ पूछे
समझो खेल ख़त्म हो आया
आओ खेलें ऐसा खेल