भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ हम धूप-वृक्ष काटें / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ हम धूप-वॄक्ष काटें ।
इधर-उधर हलकापन बाँटें ।

अमलतास गहराकर फूले
हवा नीमगाछों पर झूले,
चुप हैं गाँव, नगर, आदमी
हमको, तुमको, सबको भूले

हर तरफ़ घिरी-घिरी उदासी
आओ हम मिल-जुल कर छाँटें ।

परछाईं आ कर के सट गई
एक और गोपनता छँट गई,
हल्दी के रँग-भरे कटोरे-
किरन फिर इधर-उधर उलट गई

यह पीलेपन की गहराई
लाल-लाल हाथों से पाटें ।

आओ हम धूप-वृक्ष काटें ।