भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ हम बादल बन जाएं / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ हम बादल बन जाएँ
गरमी बहू, ताप रही धरती
हम इससे ऊपर उठ जाएँ
आसमान में सैर करें फिर
तरह-तरह के रूप बनायें।

उमड़ चले हम धीरे-धीरे
कजरारे बनकर छा जाएँ।
चलो साथियों गरज गरजकर।
बिजली भी चमचम चमकायें।

पहले बूँदें बरसायेंगे
फिर तो मूसलाधार बहाये।
बरस-बरस कर थक जाएँ तो
झट पुरवइया हवा चलायें।
उतर आयेंगे धरती पर तब
सावन के हम गीत सुनायें।