भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


141
आओ झगड़ें
सुलझाने को मिले
सात जनम ।
142
घर को भूले
देवालय जाकर
क्या है मिलना ।
143
बिटिया आई
गूँजी ॠचाएँ मेरे
सूने आँगन ।
144
पीर व नारी
युग -युग का रिश्ता
यही लाचारी
145
गंगा नहाना
अच्छा किसी दुखी को
गले लगाना ।
146
काशी या काबा
आँसुओं की जग में
एक ही भाषा ।