भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाशवाणी / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात्रि के शीतल होंठ
करते उच्चरित एक शब्द
दुख का यह स्तम्भ
शब्द नहीं शिला
शिला नहीं छाया

मेरे वाष्पित होठों के
वास्तविक जल से आता
वाष्पित विचार
शब्द सत्य का
मेरी त्रुटियों का कारण

यदि यह मृत्यु है
तो केवल उसी के माध्यम से रहता हूँ मैं
यदि यह एकान्त है
तो बोलकर व्यतीत करता इसे मैं
है स्मृति यह
और मुझे कुछ भी याद नहीं

मुझे नहीं पता
क्या कहता यह
और मैं स्वयं भरोसा करता इस पर

कोई जी रहा है यह कैसे जानना
कोई जानता है यह कैसे भूलना
समय जो अधखुला रखता है पलकों को
और देखता है हमें, स्वयं को दिखाते हुए

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’