भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आकाश के पार / हरमन हेस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकाश के आर-पार, घूम रहे हैं बादल
खेतों के आर-पार, हवा है
खेतों में भटक रहा मैं
अपनी मां की खोयी हुई संतान।

गली के आर-पार, झूम रही हैं पत्तियां
पेड़ों के पार, पक्षियों की चीख-पुकार
पहाड़ों के पार, दूर बहुत दूर
कहीं मेरा भी घर है।