भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आखर बोल: आखर बांच / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ लिछमणिया आखर बोल
आ रे गामेड़ी रूघपतिया
कळमस री पाटी रै माथै
उजळा-उजळा आखर मांड
मांडयौडा अखरां नै बांच

आखर री आंख्यां नै दीसै
घर रै बारै
मन में कतौ अंधारो

आखर लांबा हाथ करे
तिडकावै तौड़े
हियै जड़यौड़ौ ताळो

आखर बाळ अंधारो
दप-दप दीपावै
मन-आंगण
ए ही बे आखर
बाण्यां बोलीज्या
ए ही आखर बैद मंडीज्या
ए ही पोथी लिखियौड़ा है
बाणी और जूण रो सार आखर
आ लिछमणिया आखर बोल
मधिया-किसना आखर बोल
आखर देवै
कसी समै री
पूरबला परखीजै

आखर हाथ लिया सूं
जूंण जूंण रो
आगोतर राचीजै

आखर है जंगळ रा मंगळ
आखर में मंगळ रो राज
आमैं जुगां-जुगां रा सांच
थूं थारै जुग रो सत बांच
थूं थारै जुग रो सत मांड

आ गामेड़ी आखर जोड़
आ सैराती आखर मांड