भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आखर री आंख सूं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रीत
ओलै-छानै पळी
परखी म्हैं
      आखर री आंख सूं

हूक
होळै-सी क उठी
सुणी म्हैं
     आखर री आंख सूं

गांठ
मनां मांय पड़ी
देखी म्हैं
     आखर री आंख सूं