भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आखो डील पसेवै सूं तर लागै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आखो डील पसेवै सूं तर लागै
म्हांरी ना पूछो म्हांनै डर लागै

मन बिलमाई रै मिस गोळी छूटै
घरां में लोग धूजण थर-थर लागै

अजै चेती कोनी आपणी धूणी
भळै देख कठैई कीं कसर लागै

कोई दूजो ढंग सोधणो पडसी
दाद-फ़रियाद अठै बेअसर लागै

मून री सगळी भींतां भांग नांखी
उछळै कूदै टाबर : औ घर लागै