भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगाह / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधेरा
झपटा मार दबोच लेगा
रोशनी को
चुस्त चीते की तरह
और नाखुनो, पंजों ,मजबूत गिरफ्त से
बच नहीं पायेगा रोशनी का बदन
  
कहो रोशनी से रफ्तार अपनी तेज करे