भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग्नुस डाई / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती के दिगन्त
धरती के ग्रह
आँसू, रोकी गई सिसकी
मुँह से धरती का थूक
कोमल दाँत
देह सिर्फ़ धरती का एक थैला
धरती की धरती – कीड़ों की धरती ।

ईश्वर के मेमने[1] !
तुम विश्व के पापों को धो डालते हो,
ज़रा, यह बता दो बगीचे में कितने सेब हैं ।

ईश्वर के मेमने !
तुम विश्व के पापों को धो डालते हो,
माफ़ करना अभी बजे कितने हैं ।

ईश्वर के मेमने !
तुम विश्व के पापों को धो डालते हो,
मुझे थोड़ी ऊन दे दो ताकि एक स्वेटर बना सकूँ ।

ईश्वर के मेमने !
 तुम विश्व के पापों को धो डालते हो,
हमें शान्ति ति से सम्भोग करने दो :
इस पवित्र काम में टाँग मत अड़ाओ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य

शब्दार्थ
  1. Agnus Dei यानी ईश्वर का मेमना, न्यू टेस्टामेण्ट में ईसा को ईश्वर का मेमना बताया गया है।