भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग खाता घोड़ा / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग खाता हुआ यह घोड़ा है मेरा ।
वह दुलत्ती नहीं मारता,
उसे गुस्सा नहीं आता ।
जहाँ साँस लेता है मेरा घोड़ा
वहाँ फूटता नहीं है कोई झरना,
उग नहीं पाती है घास
जहाँ पूँछ हिलाता है वह ।

ओ मेरे आग-घोड़े-- भुक्खड़ पेट ।
ओ आग और आग पर बैठे सवार,
लाल ग्रीवा से उलझ गए हैं अयाल
और आकाश पर उभर आई है
आग की अनगिनत धारियाँ ।

रचनाकाल : 14 अगस्त 1918

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह