भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आछा ई है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कांई ठाह
के बांटणो है
राड़ करतो ई लाधै आदमी
         अष्टपौर
जठै देखै
बाढै एक दूजै नै
     दूजो तीजै नै
     तीजो चौथै नै
लागै-
मरगी अपणायत
गमगी पिछाण
आछा ई है
इक्कीसवीं सदी रा ऐनाण !