भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आछी करी रे आछोड़ां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोनचिड़ी आवै
अबोली जावै
हवा री सोरम
हवा में ई
अमूझ र रह जावै

मुळकै फूल
पण कोई देखै कोनी
आभै में औसरै आडंग
पण किणी रै मन कोड जागै कोनी

पावणा आवै जिण घड़ी
मन कोनी करै थड़ी
रूतां बदळती रैवै रंग
पण कुण देखै
किण रै है अड़ी

आछी करी रे आछोड़ा
परदै सूं प्रीत !