भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज़ादी / बोस - The Forgotten Hero (2005)

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागे हैं अब सारे

लोग तेरे देख वतन

गूंजे है नारों से

अब ये ज़मीन और ये गगन

कल तक मैं तन्हाँ था

सूने थे सब रस्ते

कल तक मैं तन्हाँ था

पर अब हैं साथ मेरे

लाखों दिलों की धड़कन


देख वतन

आज़ादी पाएंगे

आज़ादी लायेंगे

आज़ादी छाएगी

आज़ादी आएगी


जागे हैं अब सारे

लोग तेरे देख वतन

गूंजे है नारों से

अब ये ज़मीन और ये गगन

कल तक मैं तन्हाँ था

सुने थे सब रस्ते

कल तक मैं तन्हाँ था

पर अब हैं साथ मेरे

लाखों दिलों की धड़कन


देख वतन

हम चाहे आज़ादी

हम मांगे आज़ादी

आज़ादी छाएगी

आज़ादी आएगी