भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आजु सखी प्रातकाल / नारायण स्वामी

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

आजु सखी प्रातकाल, दृग मींडत जगे लाल,
रूप के बिसाल सिंघु, गुनन के जहाज।
कुंडल सौं उरझि माल, मुख पै अलकन को जाल,
भई मैं निहाल निरखि, सोभा को समाज॥

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)