भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज अदीतवार है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज म्हारै घरां
मत आइजै भायला
आज अदीतवार है

दिन ऊगतां ई
आंख उळझ जावै परदै में
भांत-भांत रा चितराम करै उछळकूद
विज्ञापनां री आंधी होड
      होड माथै गौर
      अष्टपौर

कोडायो आवै कोई
आवो भलांई
बक्सै में बंद हुयोड़ा सैंग
किणी नै फुरसत कोनी आज
आज अदीतवार है !