भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज का दिन कितना अच्छा है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज का दिन कितना अच्छा है
तेरी याद का फूल खिला है

मेरी सोच से बाहर आकर
तू कितना अच्छा लगता है

झगड़ा तो दुनिया से होगा
तेरा-मेरा क्या झगड़ा है

सूख रहा है पेड़ वो जिस पर
तेरा मेरा नाम लिखा है

काश कि तू भी सुनता होता
मेरी इक-इक सांस सदा है