भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज दिसता है हाल कुछ का कुछ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज दिसता है हाल कुछ का कुछ
क्‍यूँ न गुज़रे ख़याल कुछ का कुछ

दिल-ए-बेदिल कूँ आज करती है
शोख़ चंचल की चाल कुछ का कुछ

मुजकूँ लगता है ऐ परी पैकर
आज तेरा जमाल कुछ का कुछ

असर-ए-बाद:-ए-जवानी है
कर गया हूँ सवाल कुछ का कुछ

ऐ 'वली' दिल कूँ आज करती है
बू-ए-बाग़-ए-विसाल कुछ का कुछ