भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज नीरवता चारों ओर फैली है / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज नीरवता चारों ओर फैली है,
जनवरी की उस धुंध की तरह,
जो गहराती रात में,
और ज्यादा गहरी होती जाती है !

उलझी हुई भाषा की बिखरी किरचों को,
समटने का यह आखिरी प्रयास होगा,
सहज होना ही मुझे बैचेन करता है,
अपनी जद में ले लेता है पीलिया,
मेरी जीर्ण-शीर्ण देह को
यदि तीन रातें निकल जाएं बिना बैचेन हुए !

कभी-कभी लगता है कि बैचेनी,
वो बिछुड़ी हुई प्रेमिका है,
जो सारी रात पान के पत्तों को चबाती रहती थी,
और सुबह पीक छिड़क देती थी,
मेरे जरखेज होठों पर !

क्या मालूम यह बैचेनी है,
या पान की वो पीक,
जिसकी बिछुड़न न शरीर सह पाता है,
और न ही मन !