भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज बागां मेरे बीरा उणमणी / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज बागां मेरे बीरा उणमणी
आया मेरी मां का जाया बीर
हीरा बन्द ल्याया चून्दड़ी
ओढूं तो हीरा रे बीरा झड़ पड़ै
डिब्बै में धरूं तो लरजे मेरा जिया
हीरा बन्द ल्याया चून्दड़ी
इसी ए तो ल्या द्यूं दो ए चार
हीरा बन्द ल्याया चून्दड़ी