भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज भी / कुमार राहुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज भी हमने समंदर की तह छानी
आज भी भटके सहराओं में हम
आज भी बैठे मिस्ल-ए-मजनूं
आज भी छलके पैमाओं से हम

आज का दिन भी जाया हुआ
आज भी रहे तुमको लिखे बगैर...