भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज यह देख क्या हुआ, अखबार हो गए लोग / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज यह देख क्या हुआ, अखबार हो गए लोग।
देखते ही देखते इशितयार हो गए लोग।

गया वह वक़्त जब जररूत थी सहारों की,
आज अपने ही पहरेदार हो गये लोग।

उनकी अफवाओं का असर अब क्या होगा,
देखो, खुद तक से खबरदार हो गये लोग।

हवा आयेगी, सोचकर खोल लीं खिडकियां,
उनको क्या मालूम गुबार हो गए लोग।

बहुत खुश थे, चलो बुझ गईं चिंगारियां,
राख के ढेर में फिर अंगार हो गए लोग।