भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज रात इस अंधकार में / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

('निद्रा-रोग' कविता-क्रम से)

आज रात इस अंधकार में
अकेली हूँ मैं उनींदी, बेघर संन्यासिन ।
आज रात मेरे हाथों में
चाभियाँ हैं राजधानी के सब द्वारों की ।
इस पथ पर ढकेला है मुझे निद्रा-रोग ने ।
कितने सुन्दर हो तुम, ओ निष्प्राण क्रेमलिन !
आज रात मैं चूमती रहूँ वक्ष-
पूरी-की-पूरी युद्धरत पृथ्वी का ।

रोंगटे नहीं, खड़े होते हैं फ़रकोट के बाल,
दमघोंटू हवा घुस आती है सीधे हृदय में ।
आज रात तरस आ रहा है मुझे उन सब पर
जिन पर तरस करते और जिन्हें चूमते हैं लोग ।


रचनाकाल : 1 अगस्त 1916

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह