भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आज सरेआम घोषणा कर रहे है आप / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज सरेआम घोषणा कर रहे है आप।
नयी सुबह लाने का दम भर रहे आप।

आवाज तो आती, लेकिन खुलकर नहीं,
लगता भीतर कहीं जरा डर रहे आप।

न जाने कितने चूल्हे उखड़ जायेंगे,
सोचें तो सही, यह क्या कर रहे आप!

राख हटी तो खिल उठेंगे ये अंगारे,
शौकिया फूंक मार गजब कर रहे आप!

यक़ीन तो है न भोर के घर जायेगा,
जिस रास्ते में सफ़र तय कर रहे आप?