भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज हम दोनों सोचें, कुछ ऐसा करें / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज हम दोनों सोचें, कुछ ऐसा करें ।
हवा में उडना छोड़, जमीं पाँव धरें।

लौट सकती हैं आज भी सब खुशियाँ घर,
आओ, मिलकर हम उसे बेनक़ाब करें!

झख मार कर यहीं बरसेंगे ये बादल,
अपने भीतर इतनी तपन इकट्ठी करें।

सदा कब रहती है यह आंधी-बरसात,
मौसम देखें, पर तोल कर उड़ान भरें।

बहुत लड़ चुके हम अलग-अलग लड़ाइयाँ,
मरना ही है तो अब क्यों न साथ मरें!