भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज हर सम्त भागते हैं लोग / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज हर सम्त भागते हैं लोग
गोया चौराहा हो गए हैं लोग
 
हर तरफ़ से मुड़े-तुड़े हैं लोग
जाने कैसे टिके हुए हैं लोग

अपनी पहचान भीड़ में खो कर
ख़ुद को कमरों में ढूंढते हैं लोग

बंद रह-रह के अपने कमरों में
टेबिलों पर खुले-खुले हैं लोग

ले के बारूद का बदन यारों
आग लेने निकल पड़े हैं लोग

हर तरफ़ इक धुआँ सा उठता है
आज कितने बुझे-बुझे हैं लोग

रेस्तॉरानों की शक़्ल कह देगी
और क्या सोचते रहे हैं लोग

रास्ते किस के पाँव से उलझें
खूंटियों पर टंगे हुए हैं लोग