भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आज हुई बरसात / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुपके से वह निकला घर से

दिल में ख्वाहिश थी कि एक-एक सब जन के लिए

लाऊंगा खुशियाँ

बात हो चुकी थी

तय हो गया था काम मिलना


घर से निकलते ही उसके

न जाने कहाँ से आ गए बादल

होने लगी झमा-झम

मुसलाधार बारिश

गर्मी से सताई धरती लेने लगी खुलकर सांसे

चिडिया-चुनमुन चहचहाने लगे नवजीवन पाकर

चारों ओर कुदरत मुस्कुरा सी रही थी


लेकिन छूट गई थी उसकी बस

नहीं पहुँच पाया था समय पर

सो नहीं मिल पाया था उसे

वह महीनों चिरौरी कर मिला हुआ काम

बरसात ने उसे

गिरा दिया था ख़ुद की ही नजर में


एक बेरोजगार आदमी

प्रकृति से प्रेम करे तो कैसे

आज हुई थी बरसात

जिसने खुरच कर बहा दिया था उसके

सपनों को, उम्मीदों को


फिर भी आज होने वाली बरसात की

दिल से तारीफ करना चाहता है

वह भी शामिल होना चाहता है

दूसरो के सुख और संतोष में ।