भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आठ साल की बच्ची की योनि से रिसता खून / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आठ साल की बच्ची की योनि से रिसता खून,
न तो भय पैदा कर रहा था,
किसी देवता के कुपित होने का,
न उन्हें लज्जा आई खुद के मानव होने पर,
न पश्चाताप के आंसू थे उनकी आँखों में,
उनकी लपलपाती जीभ,
जानवरो के सब प्रतीकों को पछाड़ चुकी थी,
होठों में घुटती गिग्घी को,
दबा दिया गया तालू में ही,
सभ्यता के इस नँगे आवरण को,
जिसमे से आती है बूचड़खाने की तीखी सड़ांध,
चीथ देना होगा समय रहते,
नश्तर से जख्म सहलाने की सजा,
आखिर कब तक भुगतेगी मानवता,
उड़ा देने होंगे उनके लिंग, जंग लगी दरातीं से,
ताकि ये खूबसूरत धरती,
गंदे वीर्य का बोझ ढोने से बच सके,
और दरातीं का जंगपना भी जाता रहे ।