भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आठ हाइकु / कोबायाशी इस्सा / सौरभ राय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक विशाल दादुर और मैं,
देखते एक दूसरे को,
निस्तब्ध।

गर्मी की रात –
तारों के बीच
कानाफूसी।

हवा से गिरे –
लाल रंग के फूल
उसे पसन्द थे।

मत भूलो –
हम नरक से गुज़रते हैं
फूलों को निहारते हुए।

खिली चेरी की छाया में
अपरिचित
कोई नहीं।

अपनी पतंग से लिपट
गहरी नींद में जाती
बच्ची।

सबसे लम्बा जीवन
हम सबसे लम्बा जीवन
इस कठोर शरद का!

हलकी बर्फ़ –
एक कुत्ता खोदता
सड़क को।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सौरभ राय