भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आणे का वायदा किया, हो आए ना बालमा / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आणे का वायदा किया, हो आए ना बालमा
घूंघट की ओर से खोल दे अंखियां, चाले हैं ठण्डी हवा
हो आए ना बालमा
दरवाजे की ओर से देखो, हाथ पैरों से चल के देखो
डोले हे मोरा जिया, हो आए ना बालमा
हाथ की रेखा देखन वाले, देख मेरे ये भाग निराले
परदेसी ने ये क्या किया, हो आए ना बालमा