भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आत्मा का अन्तिम अरण्य / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस दुनिया में,
तमाम शोकों-सन्तापों के बीच भी,

आह, चेरी के पेड़,

तुम हो मेरी आत्मा के
अन्तिम अरण्य ...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

In this world,
Amid such deep sorrow,
Oh, cherry tree,
You are my soul’s
Only relief . . .

Translated from Georgian by Mary Childs