भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदतन यूँ सोचता है हर कोई / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदतन यूँ सोचता है हर कोई
उसके साये से नहीं बेह्तर कोई

हैं वो हैरां देखकर ये संगे-मील
जो समझते थे इसे पत्थर कोई

हम भी पा जाते ख़ुदाई मर्तबा
काश ! मिल जाता हमें आज़र कोई

ये है प्यासा,इसमें है सहरा की प्यास
चाहिए इसके लिए सागर कोई

एक मुहताजे-नज़र के वास्ते
सिफ्र से ज़्यादा नहीं मंज़र कोई

जिस्म तो क्या रूह की ज़ीनत बने
है कहाँ किरदार-सा ज़ेवर कोई

राहे-हक़ पर जो नहीं 'दरवेश' आज
लायेगी इसपर उसे ठोकर कोई