भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदत / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखना एक दिन
क्या गुल खिलाएगी तुम्हारी यह आदत
अगर छूटी नहीं तो कहीं के ना रहोगे
ना रहने दोगे हमें भी
छोड़ी ना जो यह आदत
बचेगा ना कोई दोस्त
खैर दुश्मनों की फेहरिस्त तो काबिले रश्क होगी
अपने तो बेशक हो ही जायेंगे पराये
आईना भी मुँह मोड़ लेगा
अकेले भी रह जाओगे
इसका भी मत रखना यकीन
अब भी संभल जाओ
और छोड़ दो यह आदत
सच बोलने की