भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमियों के आंकड़े / भरत ओला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मेरे दादा गुजरे
अर्थी के पीछे
सैंकड़ों आदमी थे ।

बापू गुजरे
जब बीसेक ।

हो सकता है
जब मैं मरूंगा
चार ही नहीं हो ।

अब आप ही बताएं
आदमी घटे या बढ़े ?

अनुवाद : नीरज दइया