भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमी के लिए / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह ज़माना नहीं है उनके लिए
जो नहीं जी सका आदमी के लिए
वो करेंगे भी क्या आसमां से मोहब्बत
जो नहीं जी सका है जमीं के लिए
खुद को हंसाना है छोटी लगन
यह मोहब्बत नहीं है सभी के लिए
झांक लो झांक सकते हो खुद में ज़रा
ये जलन छोड़ दो दोस्ती के लिए
कलम से बयां दर्द होता है जो
समझते हैं जो है उन्हीं के लिए