भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आदमी होता चला गया / शास्त्री नित्यगोपाल कटारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नफ़रत का भाव ज्यों ज्यों खोता चला गया
मैं रफ़्ता रफ़्ता आदमी होता चला गया ।

फिर हो गया मै प्यार की गंगा से तरबतर
गुज़रा जिधर से सबको भिगोता चला गया ।

सोचा हमेशा मुझसे किसी का बुरा न हो
नेकी हुई दरिया में डुबोता चला गया ।

कटुता की सुई लेके खड़े थे जो मेरे मीत
सद्भावना के फूल पिरोता चला गया ।
 
जितना सुना था उतना ज़माना बुरा नहीं
विश्वास अपने आप पर होता चला गया ।
  
अपने से ही बनती है बिगड़ती है ये दुनिया
मैं अपने मन के मैल को धोता चला गया ।

उपजाऊ दिल हैं बेहद मेरे शहर के लोग
हर दिल में बीज प्यार के बोता चला गया ।