भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आदमी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गनां-नातां बिच्चै
म्हारी सांस
आ दबी
अबै म्हैं
सगळा सूं निभावूं
उफ नीं करूं
तद ई कथीजूंला
       आदमी !