भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आधा-अधूरा / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम झुके ही थे कि मुझे
दिख गया आधा-अधूरा चाँद
सिहर उठी देह
वह आधा-अधूरा इतना पूरा था कि
मुझे पूरा देखने की इच्छा न रही

चाँद पर बहुत देर तक ठहरते
नहीं बादल
शरारती हवाएँ उन्हें उड़ा देती हैं
चाँद का काम है दिखना
वह न दिखे तो पृथ्वी पर
छा जाता है अन्धेरा

जीवन भर चलता रहता है
चाँद से लुका–छिपी का खेल
मुश्किल तब होती है जब आ जाती है
अमावस्या
और हम चाँद को ढूँढ़ते रह जाते हैं